संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

गुरुवार, 21 जनवरी 2010

मेरे बच्चे के मुस्कान

मेरे  बच्चे के मुस्कान में मेरा जहन समाया है
 सुबह शाम की घडी को उसके हिसाब से चलाया  है
कभी यह मुस्कान मेरा दिन बना देती कभी गुस्सा काफूर कर देती
मेरी हँसी का हँस कर जवाब देता तो में गद गद हो जाती
 हमेशा खिलता रहे उसका यह  मुख प्यारा
माँ की अपार ममता का मतलब अब समझ आया
हर पल उसको खुश देखने के चाह है
हर माँ के दिल की आवाज़ एक होती है बस उसे सुनाने वाले कान चाहिए
यहे विधान है खुद माँ बन कर ही इस एहसास को जिया  जा सकता है

2 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया!

RaniVishal ने कहा…

Sundar rachana...!!

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.