संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

दिशाएं

उतर,दक्षिण ,पूर्व ,पश्चिम
यहे चारो है हमारी दिशाएं
उतर आये ऊपर से
दक्षिण आये नीचे से
पूर्व आये सूरज लाये
पश्चिम आये सूरज छिप जाये
सूरज हमको इनका ज्ञान करये
पुराने जमने की घडी कहलाये .

1 टिप्पणी:

परमजीत बाली ने कहा…

बढिया शब्द चित्र है।

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.