संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

सोमवार, 6 जून 2011

पाती मेरे नाम

मेरे लिए की कविता लिख सकता है हाँ क्यों नहीं में भी इस लायक हु कोई मेरे लिए कविता लिख सकता है 
लाख लाख धय्न्वाद की मुझे यह दिन दिखया ----


जब भी यह दिल उदास होता है 
तब ही वह तुम्हारे पास होता है 
आंखे पथरा गयी है तकते तकते 
अब नहीं इनमे इंतज़ार होता है 
गोर करते मग र्बेरुखी सह लेते है हम 
अपनों से मिला दर्द दुश्वार होता है 
हम तो लायक नहीं थे आपके 
दर बेठे अब कहाँ एहसास होता है 
हर पल आपका इंतज़ार रहता है 

कितना कुछ सोच होगा आप ने .............किसने लिखी है यहे लाइन मेरेलिए  मुझे भी नहीं पता था की मेरे बच्चे मुझसे इतना प्यार करते है ...............जी यह लाइन मेरी एक  विधय्राथी गरिमा ...........ने  लिखी है 

बहुत बहुत धन्यवाद 
पता नहीं तुम कहन हो पर मेरे पयर तुम्हारे लिए हमेशा है .....................

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.