संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

कहाँ है यहे जहा

उस जगह की सेर करना चाहती हु
जहा कोई तमना अधि न हो
हर तस्वीर में चाहत हो
सच्चाई हो एक दुसरे के लिए सम्मान हो
हर बंधन अपने में आजाद हो
हर शब्द में अपनापन हो
आँसू दर्द दुःख जसे शब्द ही न हो
सिर्फ़ प्यार ही प्यार हो
हर चाहत पूरी हो
हर मज़िल असं हो
हर साथी सच्चा हो
काश एसा मेरा जहाँ हो ।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.