संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

मेरे जीवन साथी

तेरे लिए तेरे संग
हरदम रहूंगी सजन
चाहिए गम हो या खुशी
तेरे बिन वो सदा अधूरी ।


मेरे घर की रौशनी तुम
मेरे मन की शक्ति तुम
प्यार की इस आस्था से सजी
मेरी बगिया हो ।


तू ही मेरी ताकत
तू ही मेरी पहचान
इतना अटूट यहे नाता हो ।


शक शुबह की जगह नहीं
प्यार की मूरत हो
सच्चाई विश्वास की नींव से
बना मेरा मधुबन हो।


खुशियाँ यहं प्यार से
आदर जहाँ सस्कार में
साथ हमारा सदा रहे
कभी न चटके यहे आधार रे।


छुटी सी पहेली यहे ज़िन्दगी
करदी तुम्हारे हवाले साथी
साथी ओ मेरे जीवन साथी ।

1 टिप्पणी:

anoop ने कहा…

इतना समर्पण जिसको मिले वो तो अवश्य ही सौभाग्यशाली होगा. जिन शब्दों में भावनाओं को पिरोया गया है उनकी महक लाजवाब है.

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.