संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

मंगलवार, 31 जनवरी 2012

लम्हा लम्हा टूटी बिखरती रही है ज़िन्दगी

लम्हा लम्हा टूटी बिखरती रही है ज़िन्दगी

 तड़पती सी एक पर्छाइए  कदी है ज़िन्दगी
 खो गयी है  जो चाहत का नाम था
  कुछ  डूब गया जो मेरी चाहत का समंदर था
  आज तो सपने देखने से भी डरता है मन
 रोता है न हँसता है टीस  सी उठती  है

 ख़ामोशी  डरती है अपना भी पराया सा लगता है
 एक खौफ रहता है कुछ छुटने का
 डरता है हर सपना, खुशियाँ कापती  है
 सब बदल गया बस एक अपनी जगह तलाशती है

असमान में छिपने का मन करता है
जीवन प्रवाह को लहरों की तरह महसूस किया है
धरती देख सामने का मन  होता है
सूरज की किरणों  में गुम नहीं हो सकती
इन सबको टटोलती सी फिर एक
बार निकल पड़ती हु अनजानी रहो पे ....
कुछ अस को छोड़ते हुए 

बुधवार, 25 जनवरी 2012

अर्ज़ किया है

बहुत असं है पुरानी याद को दबा लेना
बड़ा मुश्किल  है उसी टीस को जीवन भर महसूस करना //

बड़ी बेरुखी से वो चल दिए अपने ठोर पे 
रुखसती में इतने लीन थे हाथ उठा ही छोड़ दिया //

कभी वो नज़र आते  है कभी उनका अक्स 
लगता है दिल की बात आँखों से बतला रही है//

किसके  के   रंज और गम में इतना न फ़ना होना 
दिल टूट जाये ऐसी खता न करना 


 कैसे कहू ..?किससे कहू ..? दिल की दास्ताँ 
  वही के वही है उतने ही फासले है
 फिकरे  है कसने के  लिए   //



शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

I am going to missing it

KBC last day of this year.... I had just seen......... last episode of this year .I am going to miss the show the content the feel the emotion and everything....the BigB voice ...ahhhhhhhhh !! that the best part of show ...I relates to the contestant their  stories and the best aam adami  they make it special and I feel .......I am playing...I imagine what I will answer if I am there .......hmmmmmm


बेहद दिल के करीब यह शो अमिताभ जी की आवाज़ और सटीक समझदी और प्यार  से भरी  ठिठोली बहुत याद आएगी ...सबसे अच्छी बात आम आदमी से खास की तरफ बद्ठे कदम हर देशवासी अपने आप को हॉट सीट पे देखता है हर सवाल के साथ खेलता है .....अमिताभ जी को छु कर दुनिया मुठी में कर   लेता है ......सदी के महानायक ने लोगो को गले लगा कर ,हाथ मिला कर , आंसू पोछ कर अपनेपन का एहसास दिया .....उनकी आवाज़ और आवाज़ की सरलता लोरी की तरह कानो में घुलती है .......उनकी सीख उनकी सादगी उन्हें महानायक बनती है .....खलेने वाले के साथ पूरा देश् खेलता है    में हर एक  कि कहानी में डूब जाती हु........एक जुड़ाव कहीं न कही अपने आप से कर लेती हु .......सिद्धार्थ बासु का बहुत बहुत शुक्रिया इस शो के लिये ....
आम से खास बनाने का ऐसी जगह से जुड़ने का और

रविवार, 15 जनवरी 2012

भीड़

इस भीड़ में अपने अक्स को ढूंढ़ता है 
  कहीं खो गया कहीं बिगड़ गया जो मेरा साया था
 एक मेरी तम्मना और ख्वाशियों को  छोटी सी फेहरिस्त भी  पूरी नहीं कर पाई
 अपने आसुंओं की सेज 
  एक खली हाथ के साथ अपनों के साथ 
  जब कोई साया मुझसे पूछता है तुम कहाँ 
  मैंने अपनी पर्चायिए और आत्मा से जुदा हु 
  उस पल ख़ामोशी पुकार कर कहती हु
  तुम तुम नहीं कोई और हो जो
   एक चोले में लिपट कर जी रहा है
   उस घुटन  के माहोल में तकलीफ होती है
    जहाँ स्पंदन की अभिवयक्ति नहीं होती है
   एक तड़प होती है पंख पसारने की
   छटपटा हर ताल में है  एक मधुर मोतियों को
   पिरोने की चाह होती है 
  आज फिर  मेरे दिल में चाहत है  
    छोड़ दू  इससे आजाद हो जाऊ उस जहन में
   जहँ सिर्फ मेरा सायाऔर मेरा अक्स मेरे साथ चलता  हो......
   और  एक बार फिर पुकारे  की
    इन सब में क्या है ...जीवन का दूसरा नाम छीपा है!!!



मंगलवार, 10 जनवरी 2012

नववर्ष की हार्दिक शुभ्कमानायिए २०१२



नववर्ष की हार्दिक शुभ्कमानायिए २०१२ 
इस बार में नववर्ष पे मंदिर नहीं जा सकी  इसलिए सोचा नववर्ष तब सबको करू जब में मंदिर जा सकू ..पता नहीं क्यों एसा लगा भगवन ही सबसे बड़ा सहारा है मेरा ...
क्या नववर्ष का मतलब ...शराब पीना .....बड़े बड़े रेस्त्र  में जाना ...पार्टी करना यही होता है .............?पता नहीं वसे मैंने तोह एसा किया ...........पार्टी करी शराब पीते देखा ......मंदिर का टाइम ही नहीं मिला .......मुझे  अच्छा नहीं लगा रहा है .....पुरे साल कोशिश करुँगी भगवन की पास समय पर पहुँच जाऊ ......यह साल सब के लिए मंगलमय हो सुख समृधि और स्वस्थ की खुशहाली से भरपूर हो  ......सब्केमन  की जायज़ इच्छा और हरदेश में सध्बुद्धि  और प्रेम का सेलाब हो ....



HAPPY NEW YEAR 2012...

 What to make? how many to make? how to fulfill it ?

When I was teenager, I use to have so many resolution and all of them are most of the time funny and left before the end of the month .I do not know that resolutions are so tough to make and follow .What it do to make it ..?
Mostly, we have to do  resolutions do the good work.Let our children know about happy new year .....



इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.