संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

गुरुवार, 1 जनवरी 2015

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!
यह साल आने जाने  में  निकल गया
 कुछ बेहतरीन यादें
कुछ प्यारे लोग छिन गया
साल का पहला दिन एक अलग हिसाब दे गया
हर साल एक उम्मीद के साथ आता  है
पर उम्मीद कम होती जाती है वक़्त के साथ
मेरा तो नज़राना ही खास था
आज एक और मुकाम हासिल हो गया
सोचा तो बहुत पर सब बेकार था
नया साल को कल  पुराना  बनाना है
चलो फिर यादों के झरोके मैं कुछ पल दे
अच्छे बुरे पलो को फिर जगह दे।

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.