संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

रविवार, 25 जुलाई 2010

Just…… a thought away

The obstacles of life
The failures of life
The tears u drop
The hurt u felt in the heart
The passages closed for u
The closed hands
The lost confidence
Can see only the back of people
The crude smile on the faces
The closed doors
The place where no one is known to u
You Are  criticized by every one
You Are  left by loved ones
You Are  all alone
But You Are just a thought away
You  have to overcome this phase of life
You  are a winner
This phase of life comes in every one’s life
Where no one is there to share the heart
Just a feel to get out of it
It is a feel you  can’t even come out it nor u can stand
Still you have to go on.
After bearing all this You  are ready to enjoy each moment of life
You can face any situation, you can deal any problem ,you can understand other’s problem
You are able to trace the hidden paths of the life
You will fulfill your dreams
You are ,Just a thought away

मंगलवार, 20 जुलाई 2010

Is this all so big……………..

Shattering of the target
Losing the loved once
Failures of life
Does they are so big that we should decide to compromise the most precious gift of GOD - our life
Why don’t we make memories of loved ones our strength
Why do not we try to learn, from our failures
Why we make the target that are so difficult to obtain , do these target really u want to achieve or just the pressure u have
So better stabilize u r self , Think once more
Are u good human being?
Do u work for others without any expectation just because u want to do it?
do u have any bad habits?
Can u love a person astatically ?
Can u tell the truth to a person and help them to come out of it ?
Do u wish to help the person who are tired and exhausted?
Do u have any wish u really wann to fulfill with the most deepest corner of u r heart then just go for it
Do u try to find the alternate of the problem rather then analyzing its size?
U too have a right to live
Let u open u r wings and spread the love ,care ,dedication to those to those who need us
No matter that person is ur known or unknown

सोमवार, 5 जुलाई 2010

अब जब में इंडिया जाऊँगी

अब जब में इंडिया जाऊँगी
न में हिंदी में बात करुँगी न नमस्कार करुँगी
hi hello में  ही सबका उतर दूंगी, काला  चश्मा छोटे   कपडे,हाथ में पर्स
हाई हील ,गर्दन में कलफ
सादा  पानी  नहीं बिसलेरी लुंगी
मेरे लिए  ए सी लगवाओ
नरम  नरम बिस्तर लाओ
 कोर्न्फ्लाकेस का नाश्ता बनाओ
खाने में पास्ता ,सलाद पिज्जा और फ़्रुइत्स ही खाऊँगी
अंगेरजी में बाई को  हुकुम  दूंगी
अबकी जब में US से इंडिया जाऊँगी
यह सब काम करती हु किसी को नहीं बताउंगी
काम तो पति करता है पर अफ्सरनी  में दिखाउंगी
बच्चे को छुते ही santitizer  लगने का निवेदन करुँगी
यह बाई के सब काम करती हु वह तो अफसर बनाने का काम करुँगी
US  का रोब ही बहुत है
कितनो को पाता है असलियत
यह कंजूसी  से रह कर --कर रहे  है बचत
वह लुट कर लोगो पे रोब जमा देंगे
इसलिए तो २ साल में एक बार ही घर के द्वार दस्तक देंगे
यह की अच्छी चीओ का बखान कर
घर से दूर रहने के दंश को छिपा लेंगे
अबकी जब इंडिया का रुख  करेंगे
 जीवन की किताब से
  •  अपने फ़र्ज़ को अच्छे से समझो और हेमशा पूरा करो
  • कभी खाने पर गुस्सा मत उतारो
  • अपने दिनचर्या को सुचारू और अनुशासन  के साथ शरू करो 
  • कभी दिल दुखाने वाली बात मत करो
  • झूठ,कायरता  और बुरी लत से दूर रहो
  • शरीर का सम्मान करो और उससे स्वस्थ रखो
  • हर काम को पुरे मन और लगन के साथ करो 
  • हर इन्सान का सम्मान करो
  • अपनी कमियों को जानो और स्वीकार कर सुधार  करो
  • एक न एक अपनी पसंद(रूचि ) का काम ज़रूर  करो  
  • इस दुनिया  में आने के बाद जो जीने के कायदे है उन का पालन करो
  • अपनी पसंद का भोजन  करो
  • देश के हिसाब से भेष रखो
  • शांत और सात्विक जीवन जियो
  • रोज़ तीसरी शक्ति का नमन करो
  • गीत के पाठ का ध्यान करो , कर्त्तव्य ,जिमेदारी ,दुनियादारी में संतुलन लाओ 
  • जीवन अच्छे  परिवर्तन और आगे बढने का नाम है 
  • जीओं  जीवन बिंदास !
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.