संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

शुक्रवार, 7 मई 2010

रेल गाड़ी

रेलगाड़ी  रेलगाड़ी
आगे इंजन पीछे डिब्बो वाली
इंजन है कभी काला ,कभी बिजली से चलने वाला
छुक  छुक करके चलती रेल
देखो , चुनु मुनु  मुड रही है रेल
सभी सभी सुविधाऊ वाली रेल
जसे जसे चलती रेल लगता भाग रहे
संग संग पेड़ छुट्टी आये रेल से जाये
कभी नाना नानी दादा दादी के यहं ले जाये रेल
स्टेशन पे चाय -पकौड़े अख़बार ,आइसक्रीम वाला चिल्लाये
उदास हो गया सोच कर मन अगले स्टेशन पे मेरा घर
अगली छुटी  फिर जब होगी इस रेल के  संग हो लुंगी

1 टिप्पणी:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया.

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.