संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

सोमवार, 12 अप्रैल 2010

जब मेरे पति ने इच्छा जताई

मेरा पति ने एक दिन इच्छा जताई उन्हें एक गाव की लड़की से शादी करनी थी ,यही सोच  कर मुझसे शादी की (में एक पास के कॉलेज में  पढ़ती थी छोटी  सी जगह से थी .)  पर तुम बड़ी जगह भी देख चुकी थी और तुम्हारा रहन सहन  भी शहर जैसा  था तुम्हारी माँ भी काम करती थी इसलिए वो तुम्हे अपडेट रखती थी .....
यह सुन के मेरा दिल थोडा सा टुटा पर ,फिर मुझे लगा ज़रा अपने पति की गाँव की गोरी बनके दिखाया जाये ---
मैंने बोला वसे आज भी आपकी कही हुए कोई बात नहीं टालती ...
जिसने कुछ देखा नहीं होता यहं US  आके ,वो सब भूल जाती ..इतनी बड़ी दुकाने  इतने अच्छे कपडे ...दिमाग ख़राब हो जाता ........... मुझे तो इतनी अक्ल थी की जितनी  बड़ी उतनी महंगी होगी  तुम्हारा बजट गड़बड़ा जाता ......
न वो मेरी तरह पूजा करती न किसी रिवाज़ को मानती , उसको बहाना मिल जाता यहं कुछ नहीं मिलता ; जबकि अब तो  सब कुछ मिलता है .
(में जलन के बाद भी अच्छी तरह से बोल रही थी )
जब किसी दिन तुम आफिस  से आते तो बिकिनी पहने स्व्मिंग पूल में मिलती ..या किसी गोरे के साथ घुमती दिखती ..
किसी दिन आते तो स्विमिंग पूल में कपडे धो कर भर गार्डेन में सुखा देती और तुम्हे पेनाल्टी भरनी पड़ती ./ लकड़ियाँ इकठा करके चूल्हा बनके रोटी बनाती तो पुलिस ले जाती/ घुघट करके भर जाती कभी नहीं हॉस्पिटल या काम से नहीं जा पाती मेरी तरह (जरा तन के बोला ,मैंने ) और हमेशा तुम्हे छुटटी लेनी पड़ती /

यह बोले अरे तुम तो नाराज़ हो गयी में तो मजाक  कर रहा था ..
अरे तो में कहाँ serious  हु  ..में तो बस यही बता रही थी की आजकल गाँव गाँव में टीवी है किसी से कुछ नहीं छिपता  शहर का चस्का  आसानी से लग जाता है और फिर यह तो विदेश है जहाँ लोगो को बस यही लगता है की घुमो-फिरो और मज़े  करो ,किसी को यह नहीं पता की हर चीज़ का यहं दस गुण पैसा देना होता है पढ़े लिखे गवार है ..में भी एसा ही सोचती थी कभी नहीं पता था की बाथरूम भी  साफ़ करना पड़ता है यह  खुद से बाकि घर  के काम भी सब के लिए मशीन खरीदो  चाहे  पैसा हो या न हो/पास के पार्क में जाने पे भी पैसा लगता है /
बेचारे मेरे पति वो मुझसे बस मजाक कर रहे थे मैंने तो रामायण ही खोल डाली पूरी /
यह सब मिलता है पर नाम अलग है उसे समझ ही नहीं आता  क्या लें ?
देखा !!में कितनी समझदार हु (अपने मुह .......)
अच्छा हुआ फ़ोन बज गया वर्ना सच में पता नहीं कितने विचार मेरे मुह और इनके दिमाग को चोट पहुंचाते /

4 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

थोड़ा वर्तनी (spellings) पर ध्यान दें, तो बात समझने में आसानी होगी. निवेदन मात्र है. लिखने के बाद पढ़ें जरुर और फिर पोस्ट करें.

शुभकामनाएँ.

दीपक 'मशाल' ने कहा…

ha ha ha.. mazedaar prasang

Arvind Mishra ने कहा…

interesting!

zeal ने कहा…

aapke andar 'Gaon ki gori' aur 'Shehar ki chhori' dono vidyamaan hain.Dunno how your hubby deals with the two in you....lol

achhi lagi aapki jora-joree....Meethi chhuree se kiya halaal....chhori Ganga kinare wali...

Smiles !

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.