संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

बुधवार, 31 मार्च 2010

दो पल

ज़रा दो पल ठहर  जाते
हम अपने मन की बात तुमको बताते
कितनी चाह थी रोक ले तुम्हे
पर जाने की जल्दी ने
और बेरुखी से हम अन्दर तक सुलग गए
यु तो इन तोफहा  की चाह  नहीं
 इनमे छुपे प्यार को शिदत से महसूस करते है
तुम्हारी गेरहाजारी में अपनी किस्मत पर इतराते  है
एक तुम ही तो हो जो हमारी बचकानी बाते  झेल पाते  हो
कभी अपनी नादानियों पे हम शरमाते है
तुम्हारे आलिंगन  में जितना सुकून है वो धरती के किसे कोने में नहीं है
हमारी गुस्ताखियों को भी तुम माफ़ कर देते हो
तुमसे ही हमारी शान है सिर्फ तुम्हारा ही अरमान है
हर ख़ुशी दे पाए जिसे तुमने चाह है
तुम्हारे प्यार के सामने मेरी हर चीज़ कम है
हम शुक्रगुज़ार है की रब ने तुम्हारे प्यार के लिए हमे चुना
कितने ही लव्ज कहे वो कम है

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.