संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

शुक्रवार, 19 मार्च 2010

मेरा बच्चा मेरे अरमान

एक अस है एक विश्वास  है
मेरा बेटा अच्छा इन्सान बनेगा
हर काम को सम्पुर्ण कर अंजाम देगा
अपने लक्ष्य को पा कर रहेगा
साथ ही  अपनी सभ्यता  और  संस्कृति
का सम्मान करेगा
दूर नहीं कोई राह उसके लिए
सिर्फ चाह तक पहुँचाना है
अभी वो चलना नहीं सिखा
मेरी उम्मीद ने उड़ना  शरू कर दिया
मेरे असंख्य अरमान ने जनम लेना शरू कर दिया //

 लालन पालन समावेश है
प्यार बहुत पर बिगाड़ने  के लिए नहीं
अरमान है पर थोपे के लिये  नहीं
जीवन का पाठ किसने बेठ कर सिखाया  है
हर बच्चा खुद ही समझदार बन कर आया है
कल हम अपने माता पिता को सीख देते थे
आने वाले कल हमे सीख मिलेगी
जीवन ने ही सबको हर कुछ सिखलाया है
पर यह बेकाबू मन को  अरमान बुनने से कौन रोक पाया है  /

1 टिप्पणी:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया.

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.